Business is booming.

ठंड में लहसुन खाएं, रोगों को दूर भगाएं

0 133

- Advertisement -

लहसुन एक औषधीय पौधा है. घरों में इसे मसाले के रूप में भी उपयोग में लाया जाता है. इसका वैज्ञानिक नाम एलियम सैटिवुम (Allium Sativum) है. लहसुन की पत्तियां, तना और फूलों का उपयोग खाने के लिए किया जाता हैं. इसमें विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व पाये जाते हैं, जिसमें प्रोटीन, वसा, विटामिन A, B1, B6, C तथा सल्फ्यूरिक एसिड, कैल्शियम, तांबा, सेलेनियम, आयरन और कई अन्य खनिज तत्व पाये जाते हैं.

गठिया के दर्द को भी कम करता है

इसमें पाये जानेवाले सल्फर से इसका स्वाद और गंध तीखा होता है. इसमें पाये जानेवाले अन्य तत्वों में से एलिसिन भी है, जिसे बैक्टीरिया, फफूंद रोधक एवं एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में जाना जाता हैं. लहसुन के नियमित सेवन से हृदय रोग में सुधार होता हैं. यह उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता हैं तथा खाली पेट लहसुन की 2-3 फली के सेवन से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहता हैं. यह गठिया के दर्द को भी कम करता है.

Read Also :-  जानलेवा है जापानी इंसेफ्लाइटिस का वायरस, नहीं है कोई इलाज, वैक्सीन ही है उपाय

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

लहसुन के सेवन से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. इससे शरीर बीमारियों का सामना कर पाता है तथा सर्दी-खांसी को भी कम करता है. यह कैंसर को रोकने में मदद करता है. लहसुन के अधिक उपयोग के कुछ नुकसान भी है. कच्चे लहसुन की उच्च खुराक मुंह की जलन, सांस में बदबू, पेट दर्द, भूख कम लगना, गैस, डकार, मतली, उल्टी, पेट या सीने में जलन, कब्ज, डायरिया और आंतों में बैक्टीरिया का कारण बन सकता है. सर्जरी के बाद अधिक लहसुन के सेवन से एलर्जी और ब्लीडिंग की शिकायत हो सकती है.

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.