Business is booming.

बिहार की राजनीति में भारी बदलाव, चौधरी ने छोड़ा हाथ का साथ तो मांझी ने थामी UPA की पतवार

0 145

- Advertisement -

पटना: बिहार की राजनीति में बड़ा बदलाव हुआ है। एक तरफ जहां पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने NDA गठबंधन से अलग UPA के साथ हाथ मिला लिया है। वहीं दूसरी तरफ बिहार प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और महागठबंधन सरकार में मंत्री रहे अशोक चौधरी समेत कुल चार एमएलसी ने JDU का दामन थाम लिया है। अशोक चौधरी के साथ कांग्रेस को अलविदा कहने वाले अन्य तीन का नाम दीलिप चौधरी, रामचन्द्र भारती और तनवीर अख्तर है।

बिहार की राजनीति में भारी बदलाव, चौधरी ने छोड़ा हाथ का साथ तो मांझी ने थामी UPA की पतवारइससे पहले चौधरी गुट ने बुधवार को विधान परिषदके उपसभापति हारुण रशीद को आवेदन सौंप कर सदन में अलग गुट के रूप में मान्यता देने का आग्रह किया था। चौधरी गुट के इस फैसले को सार्वजनिक होने के साथ हीं प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने अशोक चौधरी समेत चारों नेताओं को पार्टी से निष्कासित कर दिया।

बिहार की राजनीति में भारी बदलाव, चौधरी ने छोड़ा हाथ का साथ तो मांझी ने थामी UPA की पतवारकांग्रेस छोड़ने का फैसला लेने के बाद चौधरी ने देर रात अपने आवास पर आयोजित संवाददाता सम्मलेन में कहा कि उन्होंने अध्यक्ष बनाए जाने के बाद बिहार में कांग्रेस को खड़ा किया है। उनके नेतृत्व में कांग्रेस ने विधान परिषद में जहां 6 सीटें हासिल की वहीँ विधानसभा में 4 सीटों की जगह 27 सीटें हासिल की। उनका कहना है कि जिस पार्टी के लिए उनहोंने अपना सबकुछ दांव पर लगा दिया उस पार्टी ने उन्हें अपमानित किया। बकौल चौधरी विधायक दल की बैठक में उन पर अपनी हीं पार्टी के उम्मीदवार को हराने का आरोप लगाया गया। उनका मानना है कि इतने आरोप और बेइज्जती के बाद कांग्रेस छोड़ने के सिवा उनके पास और कोई रास्ता नहीं बचा था।

बिहार की राजनीति में भारी बदलाव, चौधरी ने छोड़ा हाथ का साथ तो मांझी ने थामी UPA की पतवारबता दें अशोक चौधरी का पार्टी छोड़ना तब से हीं तय माना जा रहा था जब महागठबंधन सरकार में टूट हुई थी। इसे लेकर चर्चाओं का बाजार भी खूब गर्म हुआ, लेकिन कुछ दिनों बाद इस पर विराम लग गया। बहरहाल आधिकारिक तौर पर कांग्रेस वाले अशोक चौधरी अब जदयू के हो गये हैं।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.