Business is booming.

सोमवार को दो बड़ी आपराधिक वारदातों से दहला बिहार, सूबे की कानून व्यवस्था पर उठे गंभीर सवाल

0 1,149

- Advertisement -

बिहार में क्या सच में सुसाशन कायम है? बिहार के लोगों के मन में यह सवाल लगातार उठ रहा है। सवाल उठना भी लाजमी है शायद ही कोई ऐसा दिन गुजरता है जब आपराधिक वारदातों की खबरें बिहार कि अख़बारों की सुर्खियां नहीं बनती हैं। मोबाइल छिनतई, चैन स्नैचिंग जैसी आपराधिक घटनाये तो अब रोज़ की बात हो गयी है। सूबे के मुखिया नीतीश कुमार अपराध पर जीरो टॉलरेंस की बात तो करते है पर वास्तविक धरातल पर तो सुसाशन बाबू का दावा तो फेल दिखता है।

मुज़फ़्फ़रपुर में लूट और हत्या, पटना में युवक की हत्या

सोमवार की सुबह बिहार की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले मुजफ्फरपुर में पेट्रोल पम्प कर्मी को गोली मारकर अपराधियों ने 13 लाख रुपये लूट लिए इस घटना में पेट्रोल पम्प कर्मी की मौत हो गयी। हमेशा के तरह पुलिस ने निलंबन और ट्रांसफर का ढकोसला किया और घटना की जांच करने की बात कही। शाम होते – होते राजधानी पटना के पॉश इलाके कंकड़बाग से एक और घटना की खबर आ गयी। कंकड़बाग के अति व्यस्त चौराहे मलाही पकड़ी के पास युवकों के दो गुटों में खुनी संघर्ष हो गया। सरेराह युवकों के एक गुट ने दुसरे गुट के लड़के पर चाकू से वार कर दिया। लहुलहान स्थिति में घायल युवक को पीएमसीएच अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ से घायल युवक के मौत की खबर मिल रही है ।

सुरक्षा के तमाम दावे खोखले

लगातार हो रही वारदातों से राजधानी के बाशिंदे दहशत में हैं। पुलिस का खौफ अपराधियों के मन से ख़त्म हो चूका है।सड़कों पर उपद्रवी युवा तेज रफ़्तार बाइक चलाते हुए लूट की वारदातों को अंजाम देते हैं। नियम कानून की धज्जीयां उड़ती देखनी हो तो पटना से बेहतर जगह कोई नहीं हो सकता। ऐसा लग रहा है कि पुलिस ने अपराधियों के सामने पूरी तरह समर्पण कर दिया है।

बहरहाल, सूबे के कानून व्यवस्था को लेकर सरकार ने जल्द कोई ठोस कदम नहीं उठाये तो स्थिति बद से बदतर हो सकती है।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.