Business is booming.

आज है गणेश चतुर्थी, आगले 10 दिनों तक गणेश जी रहेंगे आपके साथ. जाने कैसे करें प्रसन्न

0 230

- Advertisement -

PATNA: आज गणेश चतुर्थी है। आज से गणेश महोत्सव का शुभारंभ हो गया है और विघ्नहर्ता गणेश आपके घर में मेहमान बनकर अगले दस दिनों तक रहने वाले हैं। गणेश चतुर्थी का पर्व मुख्य रूप से भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को मनाया जाता है।माना जाता है कि इसी दिन प्रथम पूज्य श्री गणेश का प्राकट्य हुआ था।

मान्यता ये भी है कि इस दिन भगवान गणेश जी धरती पर आकर अपने भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं। गणेश चतुर्थी की पूजा की अवधि अनंत चतुर्दशी तक चलती है, इस दौरान गणपति धरती पर ही निवास करते हैं। इस बार गणेश चतुर्थी का पर्व 25 अगस्त से शुरु हो कर 05 सितम्बर तक चलेगा। गणपति स्थापना का शुभ मुहूर्त दोपहर 12.00 से 01.30 तक होगा।

हर साल विघ्नहर्ता आते हैं और भक्तों के साथ रहकर उनके सुख-दुख का हिस्सा बनते हैं। मान्यता है कि इस दौरान गणपति अपने भक्तों के सभी दुख और परेशानियों का अंत कर देते हैं। लेकिन इसके लिए गणपति को प्रसन्न करना जरूरी है। तो आइए हम आपको गणेश चतुर्थी पर गणपति पूजन की विशेष विधि बताते हैं। इस विधि से पूजन करेंगे तो विघ्नहर्ता गणेश निश्चित ही प्रसन्न हो जाएंगे …

सबसे पहले गणेश जी   की प्रतिमा की स्थापना करें। प्रतिमा की स्थापना दोपहर के समय करें , साथ में कलश भी स्थापित करें। प्रतिमा की स्थापना लकड़ी की चौकी पर पीले रंग का वस्त्र बिछा कर हीं करें। पूजा के दौरान ऊँ वक्रतुण्ड़ महाकाय सूर्य कोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरू मे देव, सर्व कार्येषु सर्वदा।। मंत्र का उच्चारण करें। दिन भर जलीय आहार ग्रहण करें या केवल फलाहार करें। शाम के समय गणेश जी की यथा शक्ति पूजा-उपासना करें और उनके सामने घी का दीपक जलाएं। गणपति को अपनी उम्र की संख्या के बराबर लड्डुओं का भोग लगाएं , साथ ही उन्हें दूब भी अर्पित करें। फिर अपनी इच्छा के अनुसार गणपति के मन्त्रों का जाप करें। चन्द्रमा को नीची दृष्टि से अर्घ्य दें , क्योंकि चंद्र दर्शन से आपको अपयश मिल सकता है। अगर चन्द्र दर्शन हो ही गया है तो उसके दोष का तुरंत उपचार कर लें। अंत में प्रसाद बांटें और अन्न-वस्त्र का दान करें

 

 

 

 

 

 

 

 

 

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.